God Hindi Stories

सबसे बड़ा पुण्यात्मा | Greatest Pious Short and Motivation Story

Greatest Pious Short and Motivation Story

सबसे बड़ा पुण्यात्मा

Short Moral Stories in Hindi

काशी की कहानी काशी प्राचीन समय से प्रसिद्ध है संस्कृत विद्या का वह पुराना केंद्र है उसे भगवान विश्वनाथ की नगरी या विश्वनाथ पुरी भी कहा जाता है विश्वनाथ जी का वह बहुत प्राचीन मंदिर है एक दिन विश्वनाथ जी के पुजारी ने स्वप्न देखा और स्वप्न में भगवान विश्वनाथ उन्हें मंदिर में विद्वानों तथा धर्मात्मा लोगों की सभा बुलाने को कह रहे हैं पुजारी ने दूसरे दिन सवेरे ही सारे नगर में घोषणा करवा दी

काशी सभी विद्वान साधु और दूसरे पुण्यात्मा दानी लोग भी गंगा जी में स्नान करके मंदिर में आए सब ने विश्वनाथ जी को जल चढ़ाया प्रदक्षिणा की और सभा मंडप में तथा बाहर खड़े हों गई उस दिन मंदिर में बहुत भीड़ थी सबके आ जाने पर पुजारी ने सबसे अपना स्वप्न बताया सब लोग हर हर महादेव की ध्वनि करके शंकर जी की प्रार्थना करने लगे जब भगवान की आरती हो गई

घड़ी घंटे के शब्द बंद हो गए और सब लोग प्रार्थना कर चुके तब सब ने देखा कि मंदिर में अचानक खूब प्रकाश हो गया भगवान विश्वनाथ की मूर्ति के पास एक सोने का पत्र पढ़ा था जिस पर बड़े-बड़े रत्न जड़े हुए थे उन रत्नों की चमक से ही मंदिर में प्रकाश हो रहा था पुजारी ने वहां रत्न जड़ित स्वर्ण पत्र उठा लिया उस पर हीरो की अक्षरों में लिखा था सबसे बड़े दयालु और पुण्यात्मा के लिए यह विश्वनाथ जी का उपहार है पुजारी बड़े तयागि और सच्चे भगवत भक्त थे उन्होंने वह पत्र उठाकर सबको दिखाया

Read More:- Moral Stories For Kids in Hindi

वे बोले प्रत्येक सोमवार को यहां विद्वानों की सभा होगी जो सबसे बड़ा पुण्यात्मा और दयालु अपने को सिद्ध कर देगा उसे यह स्वर्ण पत्र दिया जाएगा देश में चारों ओर वह समाचार फेल गया दूर-दूर से तपस्वी त्यागी व्रत करने वाले दान करने वाले लोग काशी आने लगे एक ब्राह्मण ने कई महीने लगातार चंद्रायण व्रत किया था उस स्वर्ण पत्र को लेने आए हैं लेकिन जब स्वर्ण पत्र उन्हें दिया गया उनके हाथ में जाते ही वह मिट्टी का हो गया उसकी ज्योति नष्ट हो गई

लज्जित होकर उन्होंने स्वर्ण पत्र लुटा दिया पुजारी के हाथ में जाते ही वह फिर सोने का हो गया और उसके रत्न चमकने लगे एक बाबूजी ने बहुत से विद्यालय बनवाए थे कई स्थानों पर सेवाश्रम चलाते थे दान करते करते उन्होंने अपना लगभग सारा धन खर्च कर दिया था बहुत सी संस्थाओं को वे सदा दान देते थे अखबारों में उनका नाम छपा था वह भी स्वर्ण पत्र लेने आए किंतु उनके हाथ में जाकर भी वह मिट्टी का हो गया

पुजारी ने उनसे कहा आप पद मान या यस के लोग से दान करते जान पड़ते हैं नाम की इच्छा से होने वाला धन साधन नहीं है इसी प्रकार बहुत से लोग आए किंतु कोई भी स्वर्ण पत्र नहीं ले सके सबके हाथ में पहुंचकर व मिट्टी का हो जाता था कई महीने बीत गए बहुत से लोग पत्र पाने के लोभ से भगवान विश्वनाथ के मंदिर के पास ही दान पूर्ण करने लगे लेकिन उन्हें फिर भी नहीं मिला एक दिन बूढ़ा किसान भगवान विश्वनाथ के दर्शन करने आया

वह देहाती किसान था उसके कपड़े मेले और फटे थे वह केवल विश्वनाथ जी का दर्शन करने आया था उसके पास कपड़े में बंधा थोड़ा सततू और एक छोटा सा कमबल था मंदिर के पास लोग गरीबों को कपड़े और पूरी मिठाई बांट रहे थे किंतु एक कोढ़ी व्यक्ति मंदिर से दूर पड़ा कराह रहा था उससे उठा नहीं जाता था उसके सारे शरीर में घाव थे वह भूखा था किंतु उसकी और कोई देखा तक नहीं

बूढ़े किसान को कोढ़ी व्यक्ति पर दया आ गई उसने अपना सत्तू उसे खाने को दे दिया और अपना कंबल उसे उड़ा दिया वहां से वह मंदिर में जाने लगा दे फिर वह दर्शन करने लगा मंदिर के पुजारी ने अब नियम बना लिया था कि सोमवार को जितने यात्री दर्शन करने आते थे सबके हाथ में एक बार इन स्वर्ण पत्र रखते थे बूढ़ा किसान जब विश्वनाथ जी का दर्शन करके मंदिर से निकला पुजारी ने स्वर्ण पत्र उसके हाथ में रख दिया उसके हाथ में जाते ही स्वर्ण पत्र में जड़े रत्न दुगुने प्रकाश से चमकने लगे

सब लोग बूढ़े की प्रशंसा करने लगे पुजारी ने कहा यह स्वर्ण पत्र तुम्हें विश्वनाथ जी ने दिया है जो लोग दिनों पर दया करता है जो बिना किसी स्वार्थ दान करता है और दुखियों की सेवा करता है वही सबसे बड़ा पुण्य आत्मा है |

“जहाँ दया तहाँ धर्म हैं, जहाँ लोभ तहाँ पाप.
जहाँ क्रोध तहाँ काल हैं, जहाँ क्षमा तहाँ आप..”

Learn Digital Marketing Click here

About the author

admin

8 Comments

Click here to post a comment

  • I enjoy you because of all your valuable work on this web site. My aunt delights in setting aside time for internet research and it is easy to see why. A number of us learn all about the powerful medium you offer effective things via this web blog and in addition improve contribution from some others on that situation while our favorite daughter is without a doubt becoming educated a lot. Take advantage of the remaining portion of the year. You are always carrying out a brilliant job.

  • I simply wanted to construct a comment so as to say thanks to you for all of the pleasant ways you are giving out on this site. My time intensive internet look up has finally been paid with reliable know-how to go over with my family. I ‘d tell you that many of us website visitors actually are undeniably blessed to be in a magnificent community with many awesome professionals with very beneficial advice. I feel truly grateful to have used your entire weblog and look forward to tons of more awesome moments reading here. Thank you again for a lot of things.

  • I am just writing to make you know what a terrific experience my wife’s girl enjoyed checking your web site. She learned numerous things, not to mention what it is like to possess an incredible teaching heart to have many more smoothly know some grueling issues. You undoubtedly surpassed our own desires. Thanks for imparting the productive, dependable, explanatory and as well as cool tips about the topic to Tanya.

  • I have to express my passion for your generosity for men who have the need for help with that concern. Your special dedication to passing the solution all-around has been rather interesting and has consistently permitted professionals much like me to arrive at their desired goals. Your personal useful tips and hints entails a great deal to me and still more to my office colleagues. Thanks a ton; from everyone of us.

  • I precisely needed to thank you so much all over again. I am not sure what I could possibly have carried out without those creative ideas contributed by you about this field. Certainly was a real fearsome concern in my circumstances, but considering your expert approach you managed that forced me to cry with contentment. I’m just thankful for your information and thus hope you realize what a great job you were putting in training many people using a web site. I am certain you’ve never got to know any of us.

  • I am writing to let you know of the beneficial discovery my friend’s princess experienced studying your web site. She discovered lots of pieces, with the inclusion of what it’s like to have a marvelous coaching character to get the others with no trouble grasp several very confusing topics. You actually exceeded my desires. Many thanks for coming up with those helpful, trusted, informative and in addition cool guidance on the topic to Ethel.

  • I want to express some appreciation to this writer for bailing me out of this particular problem. Because of looking throughout the search engines and finding methods which were not beneficial, I believed my life was done. Being alive devoid of the approaches to the difficulties you’ve fixed all through your main article is a crucial case, and the kind which may have in a wrong way damaged my career if I hadn’t come across your site. Your expertise and kindness in touching all the things was precious. I am not sure what I would have done if I had not discovered such a point like this. It’s possible to now look forward to my future. Thank you very much for the impressive and amazing help. I will not think twice to refer the sites to any individual who desires direction about this matter.

Live Currency Rates

Currency Last
USD/INR 75.4639
EUR/INR 81.6603
GBP/INR 93.0728
CAD/INR 53.8797
AUD/INR 48.993

Rates 12 May 2020