Short Moral Stories in Hindi – माँ की ममता – I Love Mom

Moral Stories in Hindi

Short Moral Stories in Hindi – एक अम्मा थी उन्होंने अपने 70वें जन्मदिन पर अपने चारों बेटो में अपनी सारी संपत्ति बांट दी और यह ऐलान भी कर दिया कि हर बेटे के घर में 3 – 3 महीने रहूगी पहले तो हर बेटा बेसब्री से इंतजार किया करता था अम्मा कि देखभाल करता था धीरे-धीरे अम्मा से उनकी जरूरत खत्म होती जा रही थी और अम्मा को यह सब पसंद नहीं आ रहा था और अम्मा उदास होते जा रही थी |

एक दिन उसके बेटे के घर पर अम्मा से मिलने अम्मा की दोस्त आयी और अम्मा की सारी बातें सूनी ओर गले से लगाया और फिर चली गयी लेकिन एक दिन अम्मा सूरज डूबने के बाद कही दूर से दौड़ती हुई आ रही थी जब वह घेर आयी तो उनके पैरों में काफी दर्द था जिस बेटे के पास रुकी थी उस बेटे ने पूछा कहां से आ रही हो माँ | उसने देखा अम्मा के हाथों में एक बड़ा सा संदुक (डब्बा ) था और उसमें पुराना ताला लगा हुआ था |

अब अम्मा ने कहा कि मैं यह संदूक लेने गई थी बेटे | अब बेटे अम्मा से पूछता इसमें क्या है? तो अम्मा कहती कि इसमें वह सारी चीजें हैं जिससे हमारा जीवन बदल जायेगा | लेकिन इसमें क्या है यह मेरे मरने के बाद ही पता चलेगा | जैसे ही पता चला तो उस बेटे से रहा नहीं गया और उसने अपने सभी भाइयों को बताया अब चारों बेटे सोच मैं पड़ गये की अम्मा ने पता नहीं संदूक में क्या क्या छुपा के रखा होगा|

Read More:- Moral Stories in Hindi

अब क्या था बेटे से लेकर बहुएं सब अम्मा की देखभाल में लग गए हैं और फिर प्यार दिखाने लगे और हर बेटा कहने लगा कि 3 महीने से ज्यादा रुक के जाओ ऐसे करते-करते जीवन के 10 साल बीत गए अम्मा को काफ़ी प्यार मिला देखभाल मिली और कुछ समय बाद अम्मा चल बसी और उसी दिन अब अम्मा की दोस्त आयी उन्होंने उस संदूक की चाबी सबसे बड़े बेटे के हाथो में दी अब जेसे ही चाबी मिल गयी |

सारे बेटे उनकी बहुए अम्मा की फोटो ओर उनकी यादों सारा दिखावा छोड़ के उस संदूक की ओर भागें एक दूसरे से कहने लगे कि देखा तुमने संदुक मैं क्या है जैसे ही ताला खोलने की आवाज आई ओर उसमें देखा तो सिर्फ कंकड़ ओर पत्थर थे सारे एक दूसरे को कहने लगे कि नीचे देखो नीचे खजाना होगा नीचे हाथ ड़ाल के देखा तो उसमे एक चिट्ठी थी और चिठ्ठी में लिखा था कि बड़े अफसोस की बात है कि जीवन में पैसे तो चारो ओर घूमता है।

उससे बड़े अफसोस की बात यह है कि मुने तुम्हारा प्यार पाने के लिए यह गंदा खेल खेलना पड़ा और इसी संदुक के लालच में तुमने मेरी देखभाल की थी ना यह तुम्हारी नहीं तुमहारी अम्मा की हार है यह आखिरी पैगाम है मेरी तरफ से कि अपनी सोच बदल सको तो बदल लेना |

तुम्हारी माँ कितनी भी ट्यूशन की कॉलेज की स्कूल की फीस दे दीजिए माँ से बड़ी कोई टीचर नहीं और ओर माँ से बड़ा कोई स्कूल नही। वह कोई क्रेडिट भी नहीं लेती और कहते हैं ना

बचपन में चोट लगते ही माँ हल्की फूंक मारकर कहती थी बस ठीक हो जायेगा
वाकई माँ की फूंक से बड़ा कोई मरहम नहीं बना

शिक्षा : माता-पिता का समान करें| – Moral Stories For Kids in Hindi

दोस्तों आज की यह पोस्ट माँ की ममता के बारे में है अगर इस दुनिया में सबसे बड़ा कोई शब्द है तो वो शब्द माँ है| माँ के बारे में यहाँ तक कहाँ गया है की माँ के क़दमों के निचे जन्नत है| अगर आपकी माँ आपसे नाराज है तो आपके के पास सब कुछ होते हुवे भी कुछ नहीं है| अगर पूरा संसार आपसे नाराज है और आपकी माँ आपसे राजी है तो कोई बात नहीं| लेकिन अगर माँ आपसे से नाराज है और पूरा संसार आपसे राजी है तो सब बेकार है| दोस्तों अगर हमें थोड़ी सी चोट लग जाएं तो सबसे से ज्यादा दर्द अगर किसी को होता है तो वो आपकी माँ है|

“किसी ने माँ के कंधे पर सर रख कर पूछा की माँ कब तक अपने कंधे पर सोने देगी| माँ ने कहाँ जब तक लोग मुझें अपने कंधे पर ने उठा लें|”

“माँ” तेरे दूध का हक़ मुझसे अदा क्या होगा| तु है नाराज तो, खुश मुझसे “खुदा” क्या होगा|”

“दुनिया का सबसे अमीर आदमी भी माँ के बिना गरीब है|”

“में रात बार “जन्नत” की सैर करता रहा यारों|”
सुबह आँख खुली तो देखा सर माँ के कदमो में था|”

दोस्तों आपको यह पोस्ट अगर रियल में अच्छी लगी है तो प्लीज like और Share करना ना भूले|

Learn SEO, SMO, PPC, Video Marketing

2 thoughts on “Short Moral Stories in Hindi – माँ की ममता – I Love Mom

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *