Short Moral Stories in Hindi – समय से पहले कुछ नहीं मिलता

Moral Stories in Hindi

Short Moral Stories in Hindi – एक सेठ जी थे और वह बहुत ही अमीर थे। ओर उन्होंने अपनी बेटी को बड़े ही नाजुक से पाला था। उन्होंने बिटिया की शादी कि एक बहुत ही अच्छी बिजनेस फैमिली में की थी। सब कुछ देखकर कि बेटी हमेशा खुश रहेगी पर लेकिन कहते हैं ना कि आपके भाग्य में जो नहीं होता वह आप लाख कोशिश कर लो वह नहीं मिलता बेटी के भाग्य में सुख समृद्धि नहीं थी और उसके चलते उसकी फैमिली को बहुत बड़ा नुकसान हुआ बिजनेस में।

काफी बुरे दिन उन्होंने देखें काफी गरीबी उसने अपनी आंखों के सामने देखी और अब उस बेटी की मां को देख कर बहुत दुख होता था। वह अपने पति से कहती है कि आप दुनिया की मदद करते हैं आपकी बेटी के लिए कुछ मदद क्यो नहीं करते चलिये हम उनको कुछ नया बिजनेस खुलवा देते हैं उसके लिए कुछ तो करें जो हमारी बेटी अच्छे सुख से जी पाए तो वहां सेठ जी कहते हैं कि जब उसका भाग्य उदय होगा ना तो सारी कायनात उसकी मदद कर देगी तुम जरा सब्र रखो ।

सेठानी उनकी बात तो सुन लेती है पर उनका मां का दिल था 1 दिन सेठ जी घर पर नहीं थे और अब 1 दिन बेटी और दामाद घर आए सेठानी के मन में ख्याल आया कि चुपके से इनकी मदद कर देती हु ओर उन्होंने दामाद का आदर सत्कार करते हुए कहा मैं तुम्हारे लिए मोतीचूर के लड्डू बना दूं और 5 किलो असली घी के मोतीचूर के लड्डू बनाए और अंदर छुपा दी सोने की अर्शिया अब यह लड्डू उन्होंने दामाद जी को जाते-जाते दे दिए अब दामाद जी ने सोचा कि इतना वजन कौन उठाकर ले जाय और वैसे भी पैसे का बड़ा अकाल था |

Read More:- Moral Stories For Kids in Hindi

उनके पास और उन्होंने एक रास्ते में हलवाई की दुकान पर वह लड्डू का पैकेट बेच दिया पैसे जेब में डाले और चल दिए जब सेठजी घरआ रहे थे तो उन्होंने सोचा क्यों ना घर के लिए मिठाई ले ली जाए और उन्होंने उसी दुकान पर जाकर दुकानदार से कहा की मिठाई दे दो ओर दुकानदार ने वही मोतीचूर का डब्बा सेठ जी को दे दिया सेठ जी घर पर लेकर आए तो सेठानी ने देखा कि यह तो वही लड्डू का पैकेट है लड्डू फोड़ के देखे तो वही अशरफिया निकली और उसने अपना सिर फोड़ लिया और फिर सेठ जी को सारी कहानी बताई तो सेठ जी ने कहा कि जो भाग्य में होता है तभी मिलता है यह सोने की अशरफिया ना तो हमारी बेटी के भाग्य में थी और ना ही उस दुकानदार के भाग्य में थी |

इसीलिए यह हमारे पास वापस चल कर आ गई मैं यह नहीं कहती कि आप कर्म करना छोड़ दें यदि कोई चीज आपको नहीं मिल रही है तो आप हताश या निराश मत होइए क्योंकि वक्त से पहले और भाग्य से ज्यादा किसी को कभी कुछ नहीं मिलता ध्यान रखें कि कोई भी वक्त परमानेंट नहीं होता है चाहे वह आज बुरा वक्त है तो कल अच्छा वक्त आएगा और आज बुरा वक़्त है तो वक्त कट जाएगा और कल अच्छा दिन भी आएगा जिस तरह पानी की बाल्टी कुएं में जाती है जिस तरह वह ऊपर भी आती है इसलिए सब रखिए अगर अभी हालात वैसे ऐसे नहीं है जैसे आप हैं इसलिए थोड़ा सा पेशेंस रखो है |

वक्त से पहले किस्मत से ज्यादा कुछ नही मिलता बहुत ही सही कहावत है

अपने बहुत लोगों को देखा होगा कि कठिन परिश्रम के बाद भी वो सफल नही हो पाते और एक टाइम आता है जब वो निराश हो जाते हैं, उस वक़्त उन्हें हिम्मत ना हारकर ये सोचना चाहिए कि वक़्त से पहले कुछ नही मिलेगा,अभी तो बारी है सिर्फ धीरज से अपना काम करने की | क्योंकि कही ऐसा ना हो कि आपका अच्छा समय भी आये,किस्मत भी अच्छी हो पर तब तक अपने मेहनत करना ही छोड़ दिया हो, उम्मीद ही छोड़ दी हो ।

इसीलिए कहा भी है कर्म करते रहो फल की चिंता मत करो। और कभी भी निराश नही होना चाहिये क्योंकि खराब घडी भी दिन में २ बार सही समय दिखाती है।

All the best and keep faith in God .your good time will come once. don’t be hopeless.

Learn Digital Marketing Click here

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *