Time Goes Bad Or Good Passes | वक्त बुरा हो या अच्छा गुजर ही जाता है

Short Moral Stories in Hindi

एक महात्मा साधु की कहानी जो एक शहर से दूसरे शहर और एक गांव से उस गांव में जाया करते थे | एक दिन साधु महात्मा एक गांव जा रहे थे | जाते जाते वहा शाम हो गई थी तब साधु महात्मा ने किसी के घर पर दस्तक दी और उस घर में से मनीष निकला और उसने उस साधु महात्मा की अच्छे से खातिरदारी की रात में साधु ने उसके घर में ही विश्राम किया और उसके आदर सत्कार से वह बहुत प्रसन्न हो गये ओर जाते हुए बोले ।कि तुम दिन दुगुनी और रात चौगुनी तररकी करो वह खुश हुआ और कहने लगा आज जो है वो कल नहीं रहेगा |

साधु को यह बात बड़ी अजीब लगे और वहां से चल दिए कुछ दिनों बाद महात्मा का वापस से गाव आना हुआ तो उन्होंने सोचा कि चलो मनीष से मिलते हुए चले इस बार उन्होंने देखा कि यह क्या मनीष तो ऐसी टूटी फूटी झोपड़ी में रह रहा है जब मनीष से पता चला कि व्यापार में नुकसान हो गया है

और अभी एक जमीदार के यहां नौकरी कर है | लेकिन फिर भी उस टूटी फूटी झोपड़ी में उतने ही मन से उन साधु महात्मा का आदर सत्कार किया और रूखी सुखी जो भी थी उन्हें खिलाया फटी हुई दरी ही सही उसने उस पर उन्हें बैठाया और उन्हें विश्राम करवाया और जाते हुए उन्होंने कहा कि मुझे तुम्हारी स्थिति देखकर बड़ा दुख हुआ |

Read More:- Moral Stories For Kids in Hindi

पर मैं यह चाहता हूं कि तुम्हारे पास सब धन संपदा हो मनीष फिर मुस्कुरा दिया और कहां
” एक हाल जो हर बार रहता है कल किसी ने नहीं देखा वक्त बदलता रहता है | “
महात्मा के मन में ख्याल आया कि सच्चा साधु तो मनीष है जो जीवन की सच्चाई जानता है और ऐसा सोचकर वह वहां से चले गए और तीसरी बार फिर कुछ सालों बाद महात्मा का आना हुआ तब देखा कि मनीष तो बड़े से राज महल में रहता है

बिल्कुल रजवाड़ों की तरह महात्मा बहुत प्रसन्न हुए और कहा यह सब कैसे हुआ और उसने कहा कि जिस जमीदार के यहां में काम करता था वह मेरे काम से बहुत खुश हुए और उनकी कोई भी संतान भी नहीं थी इसलिए उन्होंने सब कुछ मेरे नाम कर दिया साधु महात्मा उससे बहुत प्रसन्न में थे और जाते-जाते उन्होंने फिर आशीर्वाद दिया

तुम्हारी यह सुख संपन्नता हमेशा बनी रहे और तुम हमेशा खुश रहो मनीष मुस्कुरा दिया और कहने लगा आप अभी तक नहीं समझे साधु ने कहा कि क्या यह भी नहीं रहेगा ? मनीष ने कहा कि या तो यह नहीं रहेगा या फिर यहां पर रहने वाला नहीं रहेगा साधु महात्मा के मन में ख्याल आया कि मनीष जो कह रहा है वह सही तो है ऐसा सोचकर वह फिर वहां से चल दिए और कुछ सालों बाद फिर उनका आना हुआ तो देखा कि महल तो मनीष का वही था पर मनीष नहीं था

वहां पर कबूतर चू चू कर रहे थे और बेटियां शादी करके चली गई थी एक कोने में उसकी बीमार पत्नी बैठी थी और वहां उस महल में अकेली रह गई थी तब साधु के मन में विचार आया कि असली साधु तो मनीष ही था इस बात से हमें यह प्रेरणा मिलती है कि

किस बात पर इंसान घमंड करता है जो आज है वह कल नहीं रहेगा और जो कल है वह आज नहीं रहेगा और जो कल होने वाला है उसका अंदाजा आपको और हमको भी नहीं |

हम यह सोच कर खुश रहते हैं कि सामने वाला मुसीबत में है और हम मौज में हैं लेकिन यह भूल जाते हैं कि ना तो यह मौज रहेगी ना ही मुसीबत रहेगी | असली इंसान वही है जो हर हाल में खुश रहे और हर हाल में सुखी रहे।

Read More Updated Blogs :- Ideology Panda

10 thoughts on “Time Goes Bad Or Good Passes | वक्त बुरा हो या अच्छा गुजर ही जाता है

  1. I was very happy to find this internet-site.I wished to thanks to your time for this wonderful learn!! I undoubtedly enjoying each little bit of it and I have you bookmarked to take a look at new stuff you blog post.

  2. I and my pals were actually reviewing the good tips and tricks from your site then all of a sudden came up with an awful suspicion I never expressed respect to the website owner for those secrets. My young boys ended up totally passionate to read through them and already have in actuality been taking pleasure in them. Appreciation for truly being very thoughtful and then for finding some good ideas millions of individuals are really desperate to learn about. Our honest regret for not saying thanks to sooner.

  3. I’m just writing to let you understand of the fine discovery my friend’s girl enjoyed checking your webblog. She picked up numerous pieces, most notably what it’s like to possess a marvelous giving nature to let other individuals easily grasp a variety of advanced topics. You really exceeded visitors’ expected results. Thank you for showing such essential, trustworthy, informative and also cool tips on the topic to Ethel.

  4. Thanks for all of your effort on this blog. My mom delights in working on research and it’s obvious why. My partner and i learn all about the dynamic way you render both useful and interesting guides via the web site and even inspire response from other individuals on that subject then our own girl is without question being taught a lot of things. Take advantage of the remaining portion of the new year. You have been conducting a stunning job.

  5. I precisely desired to thank you very much again. I’m not certain the things I would have implemented without the strategies discussed by you directly on such a problem. It previously was a real intimidating condition in my circumstances, nevertheless considering the specialised technique you processed it took me to leap with delight. Extremely happier for this work and even hope that you recognize what a great job you’re accomplishing educating the mediocre ones using your websites. Probably you have never got to know all of us.

  6. I actually wanted to construct a note in order to appreciate you for the nice tactics you are showing here. My time intensive internet search has at the end been recognized with reputable insight to exchange with my relatives. I ‘d declare that many of us visitors actually are unequivocally blessed to exist in a decent website with many lovely people with very helpful solutions. I feel extremely fortunate to have seen the website page and look forward to tons of more enjoyable times reading here. Thank you once more for all the details.

  7. I needed to write you the little bit of word to say thank you yet again about the spectacular suggestions you’ve featured in this case. It is so shockingly generous with you to convey publicly all that most of us could possibly have offered for sale as an e-book to end up making some profit for themselves, certainly considering that you might have done it if you desired. These things likewise acted as a fantastic way to fully grasp someone else have similar zeal like my very own to know many more in respect of this matter. I’m sure there are many more pleasurable sessions up front for many who scan your blog.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *